Agnipath To Cut Down Defence Salary, Pension Payout? See Current Budget

Agnipath To Cut Down Defence Salary, Pension Payout? See Current Budget

सरकार अग्नि पथ योजना के माध्यम से रक्षा वेतन और पेंशन भुगतान को कम करने की उम्मीद करती है।

सरकार ने पिछले हफ्ते एक नई अग्नि पथ योजना की घोषणा की, जिसे उसने तीनों सेवाओं – सेना, वायु सेना और नौसेना के लिए सैनिकों की भर्ती के लिए एक प्रमुख रक्षा सुधार के रूप में वर्णित किया।

इस योजना के तहत, लगभग 50,000 सैनिकों, जिन्हें एग्न्यूवर्स कहा जाता है, की सालाना भर्ती की जाएगी, और योग्य उम्मीदवारों की आयु 17.5 से 23 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

उनकी सेवा के दौरान, अग्निवेर्स को 30,000 रुपये प्रति माह का प्रारंभिक वेतन दिया जाएगा, साथ ही अतिरिक्त लाभ जो उनकी चार साल की सेवा के अंत तक बढ़कर 40,000 रुपये हो जाएंगे।

योजना के माध्यम से, सरकार की योजना रक्षा बलों को अधिक युवा प्रोफ़ाइल देने और उन्हें तकनीकी रूप से कुशल लड़ाकू इकाइयाँ बनाने की है।

हालांकि, इस योजना को शुरू करने के पीछे एक और कारण सशस्त्र बलों के बढ़ते पेंशन बिल को कम करना है।

आइए तीन रक्षा सेवाओं के लिए पेंशन का भुगतान करने में सरकार द्वारा किए गए खर्च पर एक नजर डालते हैं।

रक्षा

पेंशन सरकार के खर्च करने वाले बजट का एक बड़ा हिस्सा रही है। 2022-23 के केंद्रीय बजट के तहत, पेंशन भुगतान राशि 1,19,696 करोड़ रुपये है।

2021-22 के संशोधित अनुमानों में रक्षा पेंशन के लिए 1.17 लाख करोड़ रुपये का आवंटन किया गया था। इसलिए, 2022-23 के लिए पेंशन आवंटन पिछले वित्तीय वर्ष के संशोधित अनुमानों की तुलना में 2.5% अधिक है।

अगर 2021-22 में रक्षा पेंशन का खर्च 1.17 लाख करोड़ रुपये था, तो 2020-21 में वास्तविक पेंशन बिल 1.28 लाख करोड़ रुपये से अधिक था।

इस वर्ष के बजट में आवंटित तीन रक्षा सेवाओं के वेतन भुगतान को ध्यान में रखते हुए, जो लगभग 1.35 लाख करोड़ रुपये है, 2022-23 के लिए कुल पेंशन और वेतन बिल 2.55 लाख करोड़ रुपये है, जो एक महत्वपूर्ण बात है। कुल रक्षा बजट का हिस्सा

यह एक महत्वपूर्ण राशि है जिसे सरकार अग्नि पथ के शुभारंभ के माध्यम से समय के साथ कम करने का इरादा रखती है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.